प्रेमचंदः दलित संदर्भ की कहानियां

Rated 5.00 out of 5 based on 2 customer ratings
(2 customer reviews)

94.00

 

संपादन: अशोक दास एवं डॉ. पूजा राय
प्रकाशक: दास पब्लिकेशन
पृष्ठ  : 130

Additional information

Language

2 reviews for प्रेमचंदः दलित संदर्भ की कहानियां

  1. Rated 5 out of 5

    Devendra Kumar Tripathy

    प्रेमचंद की कहानियां तो बहुत पढ़ी है लेकिन दलित समुदाय को लेकर जो कहानियों का संकलन किया गया है वह काबिले तारीफ है।

  2. Rated 5 out of 5

    Puja

    Premchand ki kahaniyo ka badia sankalan

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *